Jodo Ke Dard

5 आसान उपाय जो जोड़ो के दर्द से राहत दिलाने में मदद करते हैं


जोड़ों का दर्द आज कल के समय में एक आम समस्या है. पहले ऐसा माना जाता था की जोड़ों का दर्द (Joint Pain ) सिर्फ उम्रदराज़ लोगों तक ही सीमित है, पर हमेशा यह  सच हो, ऐसा ज़रूरी नहीं क्यूंकि आज कल ये समस्या जवान लोगों में भी दिखने लग गयी है, हालाँकि, दर्द के कारणों में फ़र्क़ ज़रूर हो सकता है।

 इसीलिए चाहे आपकी उम्र जो भी हो, अपने जोड़ों का ख्याल रखना आवश्यक होता है, और उनका ख्याल रखने के लिए सबसे पहले अपने जोड़ों, जोड़ों के दर्द के कारण को जानना और समझना आवश्यक होता है। 

 क्या है जोड़ों का दर्द (Jodo Ka Dard)?

 knee pain

शरीर के वो हिस्से जहाँ दो या दो से अधिक हड्डियां मिलकर हमारे शरीर की गतिविधयों में सहायता करते है, उन्हें ही हम जॉइंट्स या जोड़ कहते है। एक इंसान के शरीर में कई जॉइंट्स होते है और जब इन् जॉइंट्स में दर्द या बेचैनी होने लगती है , उसे ही हम जोड़ों का दर्द या (Joint Pain ) कहते है। कई बार ये दर्द कुछ ही समय में ठीक हो जाता है पर कभी - कभी यह दर्द असहनीय हो सकता है और इसे अतिरिक्त देखभाल की ज़रुरत पड़ती है।

 जोड़ों के दर्द के क्या कारण है?

जोड़ों में दर्द कई कारणों की वजह से हो सकता है ,उनमें से कुछ निम्नलिखित हैं  -

 मोच या खिंचाव

  1. ऑस्टिओआर्थरिटिस या गठिया की समस्या जो उम्र के साथ लोगों को प्रभावित करता है
  2. काफी बार पुरानी दुर्घटनाओं में लगी चोट भी समस्या कर सकती है
  3. कमज़ोर हड्डियां
  4. इन्फेक्शन

  इसके अलावा कुछ लोग सर्दी के मौसम में अक्सर जोड़ों में दर्द की शिकायत करते है ,क्यूंकि सर्दियों में हमारे शरीर में खून का संचार कम होने लगता है जिसके वजह से जोड़ों में और अकड़न आ जाती है। सिर्फ यही नहीं , यहाँ तक की आपके गलत खान-पान का असर भी आपके जोड़ों पर हो सकता है। 

 जोड़ों के दर्द से राहत के लिए कुछ आसान उपाय -

 knee pain relief

समस्या के बारे में अच्छे से जानने  के बाद आइये जानते है की हम अपने जोड़ों  के दर्द की किस तरह देखभाल कर  सकते है।  जिसके वजह से हमे दर्द से आराम भी मिले और आने वाले समय में हम दर्द से बचाव भी कर पाए। 

  1. जोड़ों के दर्द से बचने के लिए अपने वजन को नियंत्रित करना अत्यंत आवश्यक है, क्यूंकि जब हमारा वज़न अधिक होता है तब हमारे जोड़ों पर ज़रुरत से ज़्यादा दबाव या प्रेशर पड़ता है जिसके वजह से जॉइंट्स समय से पहले खराब होने लग जाते है। इसीलिए अपने वज़न को नियंत्रण में रखना अति आवश्यक होता है।
  2. जोड़ों को स्वस्थ रखने के लिए हमे अपने खान-पान में पौष्टिक आहार को महत्व देना चाहिए। दूध, विटामिन E और ओमेगा-3 युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करना हमारी हड्डियों और जोड़ों के लिए काफी लाभदायक होता है।
  3. संतुलित खाने के साथ ही हमे नियमित व्यायाम भी करना चाहिए क्योंकि अगर हमारी मांसपेशियों में किसी प्रकार की कोई हलचल नहीं होगी तो इससे हमारे जोड़ों में अकड़न और दर्द होगा। वहीँ हर दिन व्यायाम करते रहने से हमारे जॉइंट्स स्वस्थ और मज़बूत रहेंगे।
  4. सही Posture में चलना और बैठना भी जोड़ों को स्वस्थ रखने का एक एहम अंग है। इसीलिए कोशिश करे की उठते, बैठते, चलते या रोज़मर्रा के कामों के वक़्त भी अपने पोस्चर को सही  रखे। 
  5. दर्द से निदान पाने के लिए आप गरम या ठंडी सिकाई का उपयोग भी कर सकते है। गरम सिकाई करने से खून संचार बेहतर होता है जबकि ठन्डे सिकाई से सूजन और चुभन से आराम मिलता है।

इन 5 तरीकों के अलावा जोड़ों के दर्द से राहत पाने के लिए कई अलग तरीके भी अपना सकते है  - जैसे किसी आयुर्वेदिक तेल से दर्द वाली जगह पर मालिश करना। मालिश के लिए आप किसी भी तरह के तेल का उपयोग कर सकते है पर डॉ. ऑर्थो आयुर्वेदिक तेल एक अच्छा सुझाव है। इस तेल में 8  औषधियों की ताकत है जो की जोड़ों के दर्द से लड़ने के लिए काफी महत्वपूर्ण साबित हो सकता है। इसी के साथ ही जितना हो सके अपने जोड़ों (joints ) को किसी भी तरीके के चोट से बचा कर रखें । 

इन उपायों को अपना कर आप अपने जोड़ों के दर्द को आसानी से आराम दे पाएंगे। हालांकि अगर आपका दर्द फिर भी रहता है तो बेहतर यही होगा की आप किसी विशेषज्ञ को दिखा लें।